प्यार में नयापन लाएगी आपकी सेक्स पोजीशन

1.प्यार करने की इस पाठशाला में कामक्रीडाओं की भूमिका को नकारा नहीं जा सकता है

2. जिस प्रकार पुरूष या महिला एक दूसरे से शारीरिक रूप से भिन्न हैं

3. उसी प्रकार उनके प्यार को लेकर पसंद, नापसंद और तरीके भी भिन्न होते हैं

4. अगर हम पुरूषों की बात करें तो जहां वे शारीरिक रूप रंग और स्पर्श मात्र से उत्तेजित हो जाते हैं, वहीं महिलाऔं को एक अच्छा माहौल ज्यादा आकर्षित करता है

5. लेकिन अलग-अलग पसंद के बाद भी काम क्रीडाऔं के 5 सेंस ऎसे हैं जो स्त्री-पुरूष दोनों वर्ग को प्रभावित करते हैं

6. यों तो ये सेंस बहुत छोटी-छोटी बातों से जुडे हैं लेकिन इनकी अहमियत किसी को जीतने के लिए बनाई गई योजनाओं से कम नहीं है

7. सबसे पहले आता है एक दूसरे की प्रशंसा करना

8. इसलिए अपने सेक्स को सफल बनाने के लिए अपने साथी के वस्त्रों से लेकर उसके शरीर के खूबसूरत अंगों की तारीफ करें

9. अपने चुंबनों व आलिंगनों से एक दूसरे के प्रत्येक अंगों में प्यार भर दें। सेक्स करते वक्त दोनों साथी बराबर सहयोग करें

10. कई बार महिलाएं जरा पीछे रहती हैं लेकिन उन्हें भी पूरा सहयोग करना चाहिए

11. संवेदनशील अंगों को स्पर्श करना। स्त्री व पुरूष दोनों में कुछ कॉमन हिस्से जैसे कान के पीछे, गर्दन, नाभी या उसके आसपास का हिस्सा इनरथाई आदि ऎसे संवेदनशील हिस्से होते हैं जिन्हें छूने से उत्तेजना बढ जाती है

12. जितना अधिक आप इन हिस्सों पर अपना स्पर्श देंगे उतना ही अधिक प्यार के लिए इच्छा जाग्रत होगी

13. चौथा सेंस है नित नई सेक्स पॉजीशन को अपनाएं। यदि आपको लगने लगे कि यौन जीवन कुछ ऊबाउ सा हो गया है तो इसमें नयापन लाएं

14. अपने साथी को आकर्षित करने के लिए उत्तेतक वस्त्र धारण करें। कभी कभी अपने पुराने दिनों को याद करते हुए खुद में और अपने साथी में उत्साह जगाने का प्रयास करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen + twenty =